प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Monday, June 1, 2020

मेरी माँ की कोख मज़बूर थी - meree maan kee kokh mazaboor thee -- अमृता प्रीतम - Amrita Pritam #www.poemgazalshayari.in

मेरी माँ की कोख मज़बूर थी...
मैं भी तो एक इन्सान हूँ
आज़ादियों की टक्कर में
उस चोट का निशान हूँ
उस हादसे की लकीर हूँ
जो मेरी माँ के माथे पर
लगनी ज़रूर थी
मेरी माँ की कोख मज़बूर थी

मैं वह लानत हूँ
जो इन्सान पर पड़ रही है
मैं उस वक़्त की पैदाइश हूँ
जब तारे टूट रहे थे
जब सूरज बुझ गया था
जब चाँद की आँख बेनूर थी
मेरी माँ की कोख मज़बूर थी

मैं एक ज़ख्म का निशान हूँ,
मैं माँ के जिस्म का दाग हूँ
मैं ज़ुल्म का वह बोझ हूँ
जो मेरी माँ उठाती रही
मेरी माँ को अपने पेट से
एक दुर्गन्ध-सी आती रही

कौन जाने कितना मुश्किल है
एक ज़ुल्म को अपने पेट में पालना
अंग-अंग को झुलसाना
और हड्डियों को जलाना
मैं उस वक़्त का फल हूँ –
जब आज़ादी के पेड़ पर
बौर पड़ रहा था
आज़ादी बहुत पास थी
बहुत दूर थी
मेरी माँ की कोख मज़बूर थी...

- अमृता प्रीतम - Amrita Pritam
#www.poemgazalshayari.in

No comments:

Post a Comment

Paypal पेमेंट क्या है ? Paypal पेमेंट कैसे होता है विस्तार से समझाएं | Paypal पेमेंट प्राप्त करने का कितना चार्ज होता है? Paypal पेमेंट की लिमिट कितनी है ?

  Paypal पेमेंट क्या है ? Paypal पेमेंट  कैसे होता है विस्तार से समझाएं | Paypal पेमेंट  प्राप्त करने का कितना चार्ज होता है? Paypal पेमेंट ...