प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Friday, June 26, 2020

लो, खिड़की से झाँकी धूप - lo, khidakee se jhaankee dhoop -- उषा यादव- Usha Yadav #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

लो, खिड़की से झाँकी धूप।
गोरी, उजली बाँकी धूप।


कमरे में घुस, देखी मेज।

खिल-खिल हँसी, बिखेरा तेज।


फिर पहुँची कुर्सी के पास।

लगातार बिखराती हास।


गई पलंग पर इसके बाद

किए पहाड़े-गिनती याद।


रही खेलती काफी देर।

जब सुनाई दी माँ की टेर।


टा-टा करे चलदी धूप।

कल फिर आना जल्दी धूप।


- उषा यादव- Usha Yadav



#www.poemgazalshayari.in



||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||



Please Subscribe to our youtube channel



https://www.youtube.com/channel/UCdwBibOoeD8E-QbZQnlwpng

No comments:

Post a Comment

Paypal पेमेंट क्या है ? Paypal पेमेंट कैसे होता है विस्तार से समझाएं | Paypal पेमेंट प्राप्त करने का कितना चार्ज होता है? Paypal पेमेंट की लिमिट कितनी है ?

  Paypal पेमेंट क्या है ? Paypal पेमेंट  कैसे होता है विस्तार से समझाएं | Paypal पेमेंट  प्राप्त करने का कितना चार्ज होता है? Paypal पेमेंट ...