प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| धन्यवाद!

Monday, June 22, 2020

ख़ुद से बावस्ता क्या-क्या चाहे - khud se baavasta kya-kya chaahe -- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

ख़ुद से बावस्ता क्या-क्या चाहे।
क्यों नहीं होश में रहना चाहे।

अपनी दुनिया की गुफ़्तगू पर वो,
क्या पता, कुछ नही कहना चाहे।

आरजू जाने वो किस-किस की करे,
होना कितना बड़ा ख़ुदा चाहे।

जब से है शोरगुल में चारो तरफ़,
रोज़ ताज़ा कोई हवा चाहे।

अपनी आदत से परेशाँ इतना,
ख़ुद में ख़ुद को यहाँ-वहाँ चाहे।

कोई जीने का सबब पूछ रहा,
कोई मरने का भरोसा चाहे।

पेट भरता नहीं तिजारत से,
जब से ईमान का सौदा चाहे।

कुछ भी साबुत न रहे पहले-सा
आए अब ऐसा जलजला, चाहे।

- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | free WebCam for windows | Free Camera

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | Free WebCam for windows | Free Camera 1. Logitech Capture  लोगिस्टिक कैप्चर विंडोज के कुछ वेब क...