प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Monday, June 22, 2020

ख़ाली सब आसमान, ख़ाली-सी ज़मीं की तरह - khaalee sab aasamaan, khaalee-see zameen kee tarah -- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi #www.poemgazalshayari.in ||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

ख़ाली सब आसमान, ख़ाली-सी ज़मीं की तरह।
आप के शहर में हूँ कब से अजनबी की तरह।

दिन गुज़रते ही रोज़ शाम ठहर जाती है,
उदास, सूख चुकी आँखों की नमी की तरह।

लोग लिखते हैं जिसे, पढ़ते हैं तरन्नुम से,
उनमें मौजूद हूँ मैं अपने पुरयक़ीं की तरह।

ज़िन्दा है मगर ऐसी ज़िन्दगी का क्या होना,
देह में जैसे अपने प्राण की कमी की तरह।

वक़्त हैरान है, फ़ितरत से, मेरी शोहरत से,
ख़ुद से बेख़बर मैं अच्छे आदमी की तरह।

- जयप्रकाश त्रिपाठी- Jayprakash Tripathi

#www.poemgazalshayari.in

||Poem|Gazal|Shaayari|Hindi Kavita|Shayari|Love||

No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...