प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| धन्यवाद!

Saturday, May 30, 2020

असमान है युद्ध — और पुनःश्रुतिमय है हृदय की ऊष्णता - asamaan hai yuddh — aur punahshrutimay hai hrday kee ooshnata - - अनुराधा महापात्र - Anuradha Mahapatra #www.poemgazalshayari.in

असमान है युद्ध — और पुनःश्रुतिमय है हृदय की ऊष्णता
अन्धकार से उभर आता है अविराम इकतारा
उठ आते हैं शब्दों के अंकुर;
न्यूटन के गुरुत्वाकर्षण से उतर आए
सेब-जैसा बनने, पेड़ बनने का कभी मत कहना।

अपनी गहनता में जिस तरह रहते हैं
सहजन के फूल,
शान्त और सुरभित — ठीक वैसे ही
वर्षा के भीतर श्मशान की
आर्त-ममता
राख की ढेरी को ठेलकर उठ आए
अज्ञात नए पत्ते
कुछ पुरातन-कलश की कोमलता, झरे हुए विश्वास;
पागल हवा की माटी
अनिर्णेय लहूलुहान ओसकणों को
समझ पाती है!




 - अनुराधा महापात्र - Anuradha Mahapatra
#www.poemgazalshayari.in

No comments:

Post a Comment

Teri Muhabbat ne sikhaya, mujhe bharosha karna | Love Shyaari | Pyar shyari | shayari with image | couple shayari

 Teri Muhabbat ne sikhaya, mujhe bharosha karna, warna ek sa samjh sabko, gunah kar baitha tha. -Ambika Rahee हमारे इस पोस्ट को पढ़ने के लिए ...