प्रिय दोस्तों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Sunday, April 5, 2020

झर झर झर जल झरता है, आज बादरों से -jhar jhar jhar jal jharata hai, aaj baadaron se -रवीन्द्रनाथ टैगोर - Rabindranath tagore, #poemgazalshayari.in


झर झर झर जल झरता है, आज बादरों से ।
आकुल धारा फूट पड़ी है नभ के द्वारों से ।।
आज रही झकझोर शाल-वन आँधी की चमकार ।
आँका-बाँका दौड़ रहा जल, घेर रहा विस्तार ।।
आज मेघ की जटा उड़ाकर नाच रहा है कौन ।
दौड़ रहा है मन बूँदों-बूँदों अँधड़ का सह भार ।
किसके चरणों पर जा गिरता ले अपना आभार ।।
द्वारों की साँकल टूटी है, अंतर में है शोर,
पागल मनुवा जाग उठा है, भादों में घनघोर ।
भीतर-बाहर आज उठाई,किसने यह हिल्लोर ।।


रवीन्द्रनाथ ठाकुर - Rabindranath Thakur,
रवीन्द्रनाथ टैगोर - Rabindranath tagore,

#poemgazalshayari.in

No comments:

Post a Comment

विंडोज कंप्यूटर पर किसी वेबसाइट को ब्लाक करने का सबसे आसान तरीका

विंडोज कंप्यूटर पर किसी वेबसाइट को ब्लाक करने का सबसे आसान तरीका    अब आप अपने कंप्यूटर सिस्टम को इंटरनेट की दुनिया में और भी सुरक्षित बना स...