प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Sunday, April 12, 2020

बगैर उस के अब आराम भी नहीं आता - bagair us ke ab aaraam bhee nahin aata -गुलाम मोहम्मद क़ासिर - Ghulam Mohammad Kasir #poemgazalshayari.in

बगैर उस के अब आराम भी नहीं आता
वो शख्स जिस का मुझे नाम भी नहीं आता

उसी की शक्ल मुझे चाँद में नजर आए
वो माह-रूख जो लब-ए-बाम भी नहीं आता

करूँगा क्या जो मोहब्बत में हो गया ना-काम
मुझे तो और कोई काम भी नहीं आता

बिठा दिया मुझे दरिया के उस किनारे पर
जिधर हुबाब तही-जाम भी नहीं आता

चुरा के ख्वाब वो आँखों को रहन रखता है
और उस के सर कोई इल्जाम भी नहीं आता

गुलाम मोहम्मद क़ासिर - Ghulam Mohammad Kasir

#poemgazalshayari.in

No comments:

Post a Comment