प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Wednesday, March 11, 2020

पृथ्वी तो पीडि़त थी कब से आज न जाने नभ क्यों रूठा - prthvee to peedita thee kab se aaj na jaane nabh kyon rootha -sachchidanand hiranand vatsyayan "agay"- सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन "अज्ञेय" #Poem Gazal Shayari

पृथ्वी तो पीडि़त थी कब से आज न जाने नभ क्यों रूठा,
पीलेपन में लुटा, पिटा-सा मधु-सपना लगता है झूठा!
मारुत में उद्देश्य नहीं है धूल छानता वह आता है,
हरियाली के प्यासे जग पर शिथिल पांडु-पट छा जाता है।

पर यह धूली, मन्त्र-स्पर्श से मेरे अंग-अंग को छू कर
कौन सँदेसा कह जाती है उर के सोये तार जगा कर!
"मधु आता है, तुम को नवजीवन का दाम चुकाना होगा,
मँजी देह होगी तब ही उस पर केसरिया बाना होगा!

"परिवर्तन के पथ पर जिन को हँसते चढ़ जाना है सूली,
उन्हें पराग न अंगराग, उन वीरों पर सोहेगी धूली!
"झंझा आता है झूल-झूल, दोनों हाथों में भरे धूल,
अंकुर तब ही फूटेंगे जब पात-पात झर चुकें फूल!"

मत्त वैजयन्ती निज गा ले शुभागते, तू नभ-भर छा ले!
मुझ को अवसर दे कि शून्यता मुझ को अपनी सखी बना ले!
धूल-धूल जब छा जाएगी विकल विश्व का कोना-कोना,
केंचुल-सा तब झर जाएगा अग-जग का यह रोना-धोना।

आज धूल के जग में बन्धन एक-एक करके टूटेंगे,
निर्मम मैं, निर्मम वसन्त, बस अविरल भर-भर कर फूटेंगे!

sachchidanand hiranand vatsyayan "agay"- सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन "अज्ञेय"

#Poem Gazal Shayari

No comments:

Post a Comment

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari  यदि आप एक ...