प्रिय दोस्तों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Thursday, September 5, 2019

घंटियों की आवाज़ कानों तक पहुँचती है- ghantiyon kee aavaaz kaanon tak pahunchatee hai-- दुष्यंत कुमार - Dushyant Kumar

घंटियों की आवाज़ कानों तक पहुँचती है
एक नदी जैसे दहानों तक पहुँचती है

अब इसे क्या नाम दें, ये बेल देखो तो
कल उगी थी आज शानों तक पहुँचती है

खिड़कियां, नाचीज़ गलियों से मुख़ातिब है
अब लपट शायद मकानों तक पहुँचती है

आशियाने को सजाओ तो समझ लेना,
बरक कैसे आशियानों तक पहुँचती है

तुम हमेशा बदहवासी में गुज़रते हो,
बात अपनों से बिगानों तक पहुँचती है

सिर्फ़ आंखें ही बची हैं चँद चेहरों में
बेज़ुबां सूरत, जुबानों तक पहुँचती है

अब मुअज़न की सदाएं कौन सुनता है
चीख़-चिल्लाहट अज़ानों तक पहुँचती है

- दुष्यंत कुमार - Dushyant Kumar

No comments:

Post a Comment

MNP मोबाइल नंबर पोर्ट कैसे किया जाता है ? जुलाई 2024 में नए मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी नियम। नई MNP नीति क्या है?

 जुलाई 2024 में नए मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी नियम। Content: जुलाई 2024 में नए मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी नियम। ट्राई ने एमएनपी नीति में बदलाव क...