प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| धन्यवाद!

Wednesday, August 28, 2019

उठ के कपड़े बदल - uth ke kapade badal- - निदा फ़ाज़ली - Nida Fazli

उठ के कपड़े बदल 
घर से बाहर निकल 
जो हुआ सो हुआ॥

जब तलक साँस है 
भूख है प्यास है 
ये ही इतिहास है
रख के कांधे पे हल 
खेत की ओर चल 
जो हुआ सो हुआ॥

खून से तर-ब-तर
कर के हर राहगुज़र 
थक चुके जानवर 
लकड़ियों की तरह 
फिर से चूल्हे में जल
जो हुआ सो हुआ॥

जो मरा क्यों मरा
जो जला क्यों जला
जो लुटा क्यों लुटा
मुद्दतों से हैं गुम 
इन सवालों के हल 
जो हुआ सो हुआ॥

मंदिरों में भजन 
मस्ज़िदों में अज़ाँ 
आदमी है कहाँ 
आदमी के लिए
एक ताज़ा ग़ज़ल
जो हुआ सो हुआ।।

- निदा फ़ाज़ली - Nida Fazli

No comments:

Post a Comment

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | free WebCam for windows | Free Camera

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | Free WebCam for windows | Free Camera 1. Logitech Capture  लोगिस्टिक कैप्चर विंडोज के कुछ वेब क...