प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Thursday, August 29, 2019

कच्चे बखिए की तरह रिश्ते उधड़ जाते हैं - kachche bakhie kee tarah rishte udhad jaate hain- - निदा फ़ाज़ली - Nida Fazli

कच्चे बखिए की तरह रिश्ते उधड़ जाते हैं 
हर नए मोड़ पर कुछ लोग बिछड़ जाते हैं

यूँ हुआ दूरियाँ कम करने लगे थे दोनों
रोज़ चलने से तो रस्ते भी उखड़ जाते हैं 

छाँव में रख के ही पूजा करो ये मोम के बुत 
धूप में अच्छे भले नक़्श बिगड़ जाते हैं 

भीड़ से कट के न बैठा करो तन्हाई में 
बेख़्याली में कई शहर उजड़ जाते हैं

- निदा फ़ाज़ली - Nida Fazli

No comments:

Post a Comment

इंटरनेट क्या है? इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है? वेबसाइट क्या है| थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटाए?

 इंटरनेट क्या है?  इंटरनेट पर लॉगिन क्यों किया जाता है?   वेबसाइट क्या है|  थर्ड पार्टी एक्सेस क्या है? फेसबुक के थर्ड पार्टी ऐप को कैसे हटा...