प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| मुक्त ज्ञानकोष, वेब स्रोतों और उन सभी पाठ्य पुस्तकों का मैं धन्यवाद देना चाहता हूँ, जहाँ से जानकारी प्राप्त कर इस लेख को लिखने में सहायता हुई है | धन्यवाद!

Sunday, July 14, 2019

कई घरों को निगलने के बाद आती है - kaee gharon ko nigalane ke baad aatee hai - -मुनव्वर राना - munavvar raana

कई घरों को निगलने के बाद आती है 
मदद भी शहर के जलने के बाद आती है

न जाने कैसी महक आ रही है बस्ती में 
वही जो दूध उबलने के बाद आती है 

नदी पहाड़ों से मैदान में तो आती है 
मगर ये बर्फ़ पिघलने के बाद आती है

वो नींद जो तेरी पलकों के ख़्वाब बुनती है
यहाँ तो धूप निकलने के बाद आती है

ये झुग्गियाँ तो ग़रीबों की ख़ानक़ाहें[1] हैं 
कलन्दरी[2] यहाँ पलने के बाद आती है 

गुलाब ऎसे ही थोड़े गुलाब होता है 
ये बात काँटों पे चलने के बाद आती है 

शिकायतें तो हमें मौसम-ए-बहार से है 
खिज़ाँ[3] तो फूलने-फलने के बाद आती है

-मुनव्वर राना - munavvar raana

No comments:

Post a Comment

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari

स्कालरशिप ऑनलाइन में क्या दस्तावेज लगते है | Apply Scholorship Form | वजीफा ऑनलाइन | How to Apply scholorship | poemgazalshayari  यदि आप एक ...