प्रिय पाठकों! हमारा उद्देश्य आपके लिए किसी भी पाठ्य को सरलतम रूप देकर प्रस्तुत करना है, हम इसको बेहतर बनाने पर कार्य कर रहे है, हम आपके धैर्य की प्रशंसा करते है| धन्यवाद!

Sunday, July 14, 2019

बहुत पानी बरसता है तो मिट्टी बैठ जाती है - bahut paanee barasata hai to mittee baith jaatee hai - -मुनव्वर राना - munavvar raana

बहुत पानी बरसता है तो मिट्टी बैठ जाती है 
न रोया कर बहुत रोने से छाती बैठ जाती है 

यही मौसम था जब नंगे बदन छत पर टहलते थे
यही मौसम है अब सीने में सर्दी बैठ जाती है 

चलो माना कि शहनाई मोहब्बत की निशानी है 
मगर वो शख़्स जिसकी आ के बेटी बैठ जाती है 

बढ़े बूढ़े कुएँ में नेकियाँ क्यों फेंक आते हैं ?
कुएँ में छुप के क्यों आख़िर ये नेकी बैठ जाती है ?

नक़ाब उलटे हुए गुलशन से वो जब भी गुज़रता है 
समझ के फूल उसके लब पे तितली बैठ जाती है 

सियासत नफ़रतों का ज़ख्म भरने ही नहीं देती
जहाँ भरने पे आता है तो मक्खी बैठ जाती है 

वो दुश्मन ही सही आवाज़ दे उसको मोहब्बत से 
सलीक़े से बिठा कर देख हड्डी बैठ जाती है

-मुनव्वर राना - munavvar raana

No comments:

Post a Comment

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | free WebCam for windows | Free Camera

Most Popular 5 Free Web Camera for windows | Free WebCam for windows | Free Camera 1. Logitech Capture  लोगिस्टिक कैप्चर विंडोज के कुछ वेब क...